सिर्फ 50 हजार तालिबान के सामने क्यों झुक गए तीन लाख से अधिक अफगान सैनिक, जानें वजह

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अब से करीब 15 दिन पहले यह कहा था कि अफगानिस्तान की पूरी सेना अच्छी तरह सक्षम है जबकि उनकी सोच उन्हें सहायता प्रदान करने की है। बाइडेन के इस बयान के बाद अफगानिस्तान की स्थिति पहले से भी ज्यादा खराब हो गई।

सिर्फ 50 हजार तालिबान के सामने क्यों झुक गए तीन लाख से अधिक अफगान सैनिक

क्योंकि उसके बाद तालिबान ने पहले से भी अधिक से तेजी से आक्रमण करना शुरू कर दिया। जिस वजह से अफगानिस्तान के किसी भी शहर में वहां के सैनिक उन तालिबानों का सामना करने में असफल साबित होने लगे।

सिर्फ 50 हजार तालिबान के सामने क्यों झुक गए तीन लाख सैनिक

अफगानिस्तान के काबुल से लौटे भारतीय सुरक्षा एजेंसी के जानकार का कहना है कि वहां के तीन लाख से अधिक सौनिकों को पिछले कई महीनों से अमेरिका तथा अन्य पश्चिमी देशों से सहायता मिलना लगभग बंद हो गया था।

उसके बाद मई में जब अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने यह घोषणा किया कि वो अपने सैनिकों को वापस बुला लेंगे। फिर अफगान के सैनिकों को मनोबल पूरी तरह से गिरने लगा, क्योंकि उस समय तक अफगानिस्तान के सैनिक युद्ध की रणनीतिक तथा दिशानिर्देश के लिए पूरी तरह अमेरिका पर निर्भर था।

इसके बाद अमेरिकी सैनिकों ने कई स्थानों पर अपने हेलीकाप्टरों को पूरी तरह से निष्‍क्र‍िय भी कर दिया। जिस वजह से अफगानिस्तान के सैनिक पूरी तरह निराश हो गए। यही कारण है कि अंत में सिर्फ 50 हजार तालिबान के सामने तीन लाख से अधिक अफगानिस्तानी सैनिक झुक गए।

One thought on “सिर्फ 50 हजार तालिबान के सामने क्यों झुक गए तीन लाख से अधिक अफगान सैनिक, जानें वजह

  1. Aek Karan yeh bhi tha ki adhiktar sainik pashtoon the aur adhiktar Taliban bhi pashtoon hain .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *