W, W, W : हैट्रिक लेकर इस गेंदबाज ने ढाया कहर, टीम इंडिया का दरवाजा खटखटाया , मुंबई के इस खिलाड़ी का शानदार शतक बेकार चला गया

W, W, W : शुक्रवार को विजय हजारे ट्रॉफी का फाइनल मुंबई और सौराष्ट्र के बीच खेला गया। टॉस जीतकर सौराष्ट्र ने पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। ऋतुराज गायकवाड़ के शतक की मदद से पहले बल्लेबाजी करते हुए मुंबई ने निर्धारित 50 ओवर में 248 रन बनाए। जवाब में सौराष्ट्र की ओर से शेल्डन जैक्सन ने भी शानदार शतक जड़ा और सौराष्ट्र को विजय हजारे ट्रॉफी का चैंपियन बना दिया. सौराष्ट्र के स्टार ऑफ द मैच चिराग जानी ने भी शानदार हैट्रिक लगाई।

चिराग जानी ने हैट्रिक ली

टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी मुंबई की शुरुआत बेहद खराब रही और ओपनर पवन शाह महज 4 रन बनाकर आउट हो गए। एक तरफ से विकेट गिरते रहे लेकिन ऋतुराज गायकवाड़ ने दूसरी तरफ से एक छोर संभाले रखा. ऋतुराज ने 131 गेंदों में 7 चौकों और 4 छक्कों की मदद से 108 रनों की पारी खेली। ऋतुराज के अलावा कोई भी बल्लेबाज खास प्रदर्शन नहीं कर सका और मुंबई की पूरी टीम 50 ओवर में सिर्फ 248 रन ही बना सकी.

सौराष्ट्र के लिए चिराग जानी ने शानदार हैट्रिक बनाई। चिराग ने मैच के 49वें ओवर में लगातार 3 विकेट लेकर फाइनल में हैट्रिक लेने का कमाल किया है. इस ओवर की पहली दो गेंदों पर सौरभ नवाले, राजवर्धन हैंगरगेकर  को बोल्ड किया, फिर तीसरी गेंद पर विक्की ओस्तवाल को एलबीडब्ल्यू आउट कर अपनी हैट्रिक पूरी की. चिराग ने 10 ओवर में 43 रन देकर 3 विकेट लिए। इसके अलावा प्रेरक मंकाड़, उनादकट और पार्थ ने भी एक-एक सफलता हासिल की।

शेल्डन के शतक से जीता सौराष्ट्र

249 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरे शेल्डन जैक्सन सौराष्ट्र के संकटमोचक के रूप में सामने आए. मैच में शेल्डन ने शानदार शतक लगाया। उन्होंने 136 गेंदों में 12 चौकों और 5 छक्कों की मदद से 133 रनों की शानदार पारी खेली. मैच में एक समय सौराष्ट्र भी फंसता दिख रहा था, उसके पांच खिलाड़ी 192 रन पर आउट हो गए। लेकिन इसके बाद फिर से जिराग जानी ने 25 गेंदों में 30 रन की उपयोगी पारी खेली और अपनी टीम को विजय हजारे ट्रॉफी का चैंपियन बना दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *