एसआईपी में करने जा रहे पैसा निवेश, तो भूलकर भी ना करें ये गलतियां, वरना पड़ सकता है भारी!

Investment in SIP: खबर है कि एसआईपी के जरिए फरवरी 2024 में 19,186,58 करोड़ रुपये का निवेश किया गया। एसआईपी को लेकर निवेशकों की संख्या बढ़ रही है और एसआईपी की ये बड़ी उपलब्धी है कि लोगों का क्रेज यहां बढ़ रहा है। आजकल SIP में निवेश का प्रचलन बढ़ रहा है, लेकिन पहली बार निवेश करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना आवश्यक है। गलतियों से बचने के लिए, सही तरीके से निवेश करने के लिए सलाह लेना बहुत जरूरी है।

SIP इस समय निवेशकों की पहली पसंद है। फरवरी में एक नया रिकॉर्ड हाई बना लिया गया है। फरवरी में जो रिकॉर्ड बना है वो तो आपको बता दिया लेकिन जनवरी 2024 में रिपोर्ट आई थी कि एसआईपी में 18,838.33 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था। एसआईपी में निवेश करते समय आपको गलती नहीं करना चाहिए।

एसआईपी में निवेश करते समय ना करें ये गलतियां (Investment in SIP)

आज के समय में एसआईपी को लेकर नवेशकों का क्रेज बढ़ रहा है। ये अच्छी बात है क्योंकि पैसा निवेश करना भविष्य के लिए अच्छा होता है। फिर भी ऐसा करते समय कुछ गलतियों से बचना चाहिए।

बिना सलाह के नहीं करें निवेश: कहीं भी पैसा जमा करने या निवेश करने से पहले संबंधित भरोसेमंद व्यक्ति से इसकी सलाह जरूर लें। या फिर जहां आप निवेश करने जा रहे हैं उसपर अच्छे से रिसर्च भी कर लें। एसआईपी में निवेश से पहले सही से रिसर्च करना बेहद जरूरी है, और यदि आवश्यक हो तो सलाहकार से सलाह लेनी चाहिए।

अच्छे रिटर्न के लालच से बचें: कई कंपनियां अच्छे रिटर्न का झांसा देकर निवेशकों को बहकाते हैं। म्यूचुअल फंड्स में निवेश बढ़ गया है, इसलिए समझदारी से निवेश करें। एसआईपी का चयन करते समय केवल रिटर्न पर नहीं, बल्कि अन्य पैरामीटर्स को भी ध्यान में रखें। कुछ बार अच्छा रिटर्न वाली एसआईपी भी निगेटिव रिटर्न दे सकती है।

एसआईपी कभी बंद करना: विशेषज्ञों के मुताबिक, अक्सर लोग एसआईपी को बंद और फिर फिर से शुरू करते रहते हैं। यह तरीका फायदेमंद नहीं होता क्योंकि इससे निवेशकों को पूरा फायदा नहीं होता और कई बार नुकसान भी होता है।

किसी एक ही स्कीम में निवेश करना: आपको अलग-अलग फंड और सेक्टर में पैसा लगाना चाहिए, ताकि एक फंड या सेक्टर के निगेटिव होने पर आपके पोर्टफोलिया पर ज्यादा असर नहीं पड़े।

निवेश की गई रकम: निवेशकों को ध्यान रखना चाहिए कि एसआईपी में निवेश की गई रकम कम या ज्यादा नहीं होनी चाहिए। इसे अपने वित्तीय लक्ष्यों और जोखिम सहने की क्षमता के अनुसार निर्धारित करना चाहिए। बहुत कम निवेश करने पर अधिक रिटर्न नहीं मिलेगा।

डिस्क्लेमर: यहां बताई गई सभी बातें सामान्य जानकारी पर आधारित है। इसपर अमल करने से पहले आपको संबंधित विशेषज्ञों से परामर्श जरूर करना चाहिए।

Leave a Comment