उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना 2022: ऑनलाइन आवेदन (Uttarakhand Viklang Pension Yojana)

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन, पात्रता, उद्देश्य, दस्तावेज, लाभ, डाउनलोड फॉर्म (Uttarakhand Viklang Pension Yojana in Hindi, Online Application, Objective, Eligibility, Benefit, Documents, Download Application Form PDF)

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना राज्य के सभी विकलांगों के लिए एक बेहतरीन स्कीम है। क्योंकि उन्हें इस योजना की वजह से आर्थिक मदद मिलती है, लेकिन फिर भी बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो शारीरिक रूप से विकलांग होने के बावजूद भी इस स्कीम का फायदा उठाने में असफल रहे हैं। इसके पीछे कई वजह हो सकती है, लेकिन उनमे से सबसे बड़ी वजह जानकारी न हो पाना है। क्योंकि जिन लोगों को Uttarakhand Viklang Pension Yojana 2022 के बारे में मालूम है उन्होंने ने तो इसका फायदा उठा लिया, लेकिन जो लोग इसके बारे में नहीं जानते हैं वो इस मामले में पीछे रह गए।

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना

हम चाहते हैं कि जब भी सरकार कोई स्कीम लेकर आती है तो उसका लाभ उन लोगों को मिले जो उसके पात्र है। इसी वजह से हमने इस लेख में उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना 2022 के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से दी है ताकि इस स्कीम का लाभ लेने में कोई समस्या न हो। आगे इस आर्टिकल में आप Uttarakhand Viklang Pension Yojana 2022 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण विषयों के बारे में जानेंगे, इस वजह से आगे दी गई जानकारी को ध्यानपूर्वक पढ़िए।

Table of Contents

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना 2022 क्या है – Uttarakhand Viklang Pension Yojana

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना को अंग्रेजी भाषा में Uttarakhand Handicap Pension Scheme के नाम से जाना जाता है जिसे उत्तराखंड की सरकार द्वारा चलाया जा रहा है। यही कारण है कि इसका लाभ सिर्फ उसी राज्य के विकलांग व्यक्तियों को मिलेगा। सरकार ने इस योजना को इसलिए शुरू किया, क्योंकि उत्तराखंड में बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो शारीरिक रूप से कोई भी काम करने में असमर्थ है, इस वजह से उनका जीवन दूसरों के ऊपर निर्भर है। इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार Uttarakhand Viklang Pension Yojana 2022 का संचालना अच्छी तरह कर रही है।

इस योजना के माध्यम से सरकार अपने राज्य के विकलांग व्यक्तियों के लिए हर महीने 1000 रुपए देती है ताकि वो उस पैसों को अपने ऊपर खर्च कर सके। वहीं जो लोग वृद्धा पेंशन या विधवा पेंशन जैसे स्कीम का लाभ उठा रहे हैं उन्हें विकलांग पेंशन योजना का लाभ नहीं मिलेगा। इस वजह से वैसे लोगों को इस स्कीम के लिए आवेदन नहीं करना चाहिए, अगर फिर भी वो ऐसा करते हैं तो उन्हें इसका कोई लाभ नहीं मिल पाएगा।

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

योजना का नाम उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना
राज्य उत्तराखंड
शुरू किसने की उत्तराखंड की सरकार
लाभार्थी उत्तराखंड के विकलांग लोग
उद्देश्य राज्य के विकलांग को आर्थिक मदद देना
आवेदन की प्रक्रिया ऑनलाइन/ऑफलाइन
ऑफिसियल वेबसाइट ssp.uk.gov.in

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना का उद्देश्य क्या है? (Objective)

हम सब जानते हैं कि जो लोग शारीरिक रूप से विकलांग होते हैं उन्हें दूसरों के ऊपर आश्रित रहना पड़ता है जिस वजह से उनकी जिंदगी कठिनाइयों में व्यतीत होता है। लेकिन सरकार चाहती है कि उनका भी जीवन खुशहाल हो, इसी उद्देश्य से उत्तराखंड की सरकार ने विकलांग पेंशन योजना शुरू किया है। इस योजना के द्वारा विकलांगों को 1000 रुपए प्रति महीने सहायता राशि दिया जाता है जिसका इस्तेमाल वो अपनी जिंदगी में होने वाली जरूरतों के ऊपर खर्च कर सकते हैं।

जो लोग इस योजना का लाभ उठाने के लिए इच्छुक है उन्हें कुछ कुछ पात्रता को पूरा करना होगा। जैसे लाभार्थी के परिवार की वार्षिक आय अधिकतम 48 हजार तक होनी चाहिए। अगर इससे अधिक होता है तो फिर उन्हें Uttarakhand Viklang Pension Yojana 2022 का लाभ नहीं मिल पाएगा। इसके अलावे भी कई ऐसे पात्रता मानदंड है जिसके बारे में हमने आगे बताया है तो उसे अच्छी तरह पढ़ने के बाद ही आवेदन करें। हमने आगे यह भी बताया है कि इस स्कीम के लिए आवेदन कैसे करना है?

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना के कुछ लाभ (Benefit)

मेरे हिसाब से उत्तराखंड के उन सभी व्यक्ति को इस योजना का लाभ लेना चाहिए, जो विकलांग है। इस स्कीम के कई फायदे भी हैं, जिसके बारे में हमने नीचे बताया है। इस वजह से आप उसे भी जरुर पढ़िए :-

  • विकलांग पेंशन योजना के अंतर्गत उत्तराखंड के सभी विकलांगों को इसका लाभ मिलेगा।
  • जो लोग वृद्धा पेंशन या विधवा पेंशन जैसे किसी स्कीम का लाभ ले रहे हैं तो उन्हें इस योजना का कोई फायदा नहीं मिल पाएगा।
  • इस स्कीम का लाभ उठाने के लिए आवेदक की न्यूनतम आयु 16 और अधिकतम आयु 65 वर्ष होनी चाहिए।
  • Uttarakhand Viklang Pension Yojana 2022 का लाभ उठाने के लिए आवेदक के पास कोई भी तीन या चार पहिया वाहन नहीं होना चाहिए।
  • जो भी विकलांग व्यक्ति इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं उनके परिवार की वार्षिक आयु अधिकतम 48 रुपये होनी चाहिए।
  • उत्तराखंड की सरकार इस योजना के तहत विकलांग व्यक्ति को 1000 रुपये हर महीने देगी।
  • इस स्कीम का फायदा उठाने के लिए आवेदक के पास विकलांग प्रमाण पत्र या यूडीआईडी कार्ड होना बहुत आवश्य है।
  • आपको बता दें कि इसका फायदा उठाने के लिए आवेदक को 40 प्रतिशत से अधिक विकलांग होना जरुरी है।

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना 2022 की पात्रता (Eligibility)

यदि आप Uttarakhand Viklang Pension Yojana 2022 के लिए आवेदन करने के बारे में सोच रहे हैं तो उससे पहले आपको इसकी पात्रता मानदंड के बारे में पूरी जानकारी ले लेनी चाहिए। इसके बारे में हमने नीचे बताया हुआ है, इस वजह से आप उसे ध्यानपूर्वक पढ़िए :-

  • इस योजना का लाभ लेने के लिए उत्तराखंड का निवासी होना आवश्यक है।
  • आवेदक को गरीबी रेखा से नीचे के परिवार का होना चाहिए।
  • आवेदक के परिवार की वार्षिक आय अधिकतम 48 हजार से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • आवेदक के परिवार में किसी के पास तीन या चार पहिया का वाहन नहीं होना चाहिए।
  • आवेदक के बैंक खाता से आधार कार्ड लिंक होना जरुरी है, उसके बाद ही उनके खाते में पैसे जाएगा।
  • आवेदक की आयु न्यूनतम 16 और अधिकतम 65 वर्ष से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।
  • इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक के पास विकलांग प्रमाण पत्र भी होना अति आवश्यक है। वह प्रमाण पात्र प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, मुख्य चिकत्साधिकारी या सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से प्रदत्त होना अनिवार्य है।
  • Uttarakhand Viklang Pension Yojana 2022 का लाभ लेने के लिए आवेदक का शरीर 40 प्रतिशत से अधिक विकलांग होना चाहिए।

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना 2022 के लिए दस्तावेज (Documents)

अब प्रश्न आता है कि इस योजना के लिए जब हम आवेदन करेंगे तो उस समय हमें क्या-क्या दस्तावेज (Documents) देने होंगे। उन सभी डाक्यूमेंट्स के बारे में हमने नीचे बताया है, इस वजह से उसे भी जरुर पढ़िए :-

  • आधार कार्ड
  • विकलांग प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता विवरण
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना 2022 आवेदन प्रक्रिया (Application Process)

तो अब सवाल आता है कि इस स्कीम के लिए हम ऑफलाइन आवेदन कैसे कर सकते हैं? यह प्रक्रिया भी बहुत ही सरल है, लेकिन फिर भी हमने इसके बारे में कुछ स्टेप के माध्यम से आगे बताया हुआ है। इस वजह से आप उसे भी अच्छी तरह पढ़िए। उम्मीद करता हूं कि आपको सब कुछ समझ में आ जाएगा :-

  • आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको इसकी ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा।
  • उसके बाद होम पेज ही डाउनलोड का बटन दिया गया है, उस पर क्लिक करना होगा।
  • फिर एक पेज खुलेगा, उसमे आप दिव्यांग पेंशन पर क्लिक कीजिए।
  • उसके बाद वहां से पीडीऍफ़ फाइल डाउनलोड कर लीजिए।
  • अब आपको उस पीडीऍफ़ फाइल का प्रिंट निकलवाना होगा।
  • फिर उस फॉर्म को ध्यानपूर्वक अच्छी तरह भरिए।
  • उसके बाद आपको उस फॉर्म में सभी जरुरी डाक्यूमेंट्स अटैच करने हैं।
  • फिर उस फॉर्म को समाज कल्याण विभाग में जाकर जमा कर दीजिए।

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन (Online Application)

हमने ऊपर यह बताया है कि उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना 2022 के लिए ऑफलाइन आवेदन कैसे कर सकते हैं? लेकिन बहुत सारे लोग ऑनलाइन आवेदन भी करना चाहते हैं, इस वजह से हमने इसके बारे में भी नीचे बताया है :-

  • इस के लिए आपको एक बार फिर से इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब इस वेबसाइट के होम पेज पर नया ऑनलाइन आवेदन पर क्लिक कीजिए।
  • फिर आपको पेंशन योजना में दिव्यांग चयन करना होगा।
  • उसके बाद आपके सामने एक फॉर्म खुल जाएगी, जिसमे आपको सभी जानकारी भरनी है।
  • फिर आपको कैपचा भरने के बाद सुरक्षित करें पर क्लिक करना होगा।

उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना से संबंधित सवाल व जवाब (FAQ)

अब आपके मन में Uttarakhand Viklang Pension Yojana 2022 से संबंधित कई तरह के प्रश्न होंगे। मुझे यह नहीं मालूम कि आपके मन में क्या सवाल चल रहा हैं, लेकिन फिर भी हमने नीचे कुछ प्रश्नों का उत्तर दिया है जिसे आप अवश्य पढ़िए :-

Q: उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना के तहत कितनी राशि मिलती है?

इस योजना के तहत कुष्ठ रोगियों को एक हजार और अन्य को 800 रुपये हर महीने के हिसाब से मिलते हैं। लेकिन वो पैसा हर 6 महीने पर भुगतान किया जाता है।

Q: उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना के लिए आवेदन करने के तरीके क्या है?

विकलांग पेंशन योजना उत्तराखंड के लिए आप दो तरीके से ऑनलाइन और ऑफलाइन के द्वारा आवेदन कर सकते हैं।

Q: उत्तराखंड विकलांग पेंशन के लिए कितना प्रतिशत विकलांग होना चाहिए?

इस योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदक को कम से कम 40 प्रतिशत विकलांग होना अनिवार्य है।

Q: उत्तराखंड विकलांग पेंशन योजना के लिए आयु सीमा कितनी होनी चाहिए?

इस स्कीम का लाभ उन्ही लोगों को मिलेगा, जिनकी न्यूनतम आयु 16 और अधिकतम 65 वर्ष होगी।

इसे भी अवश्य पढ़िए :-

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना क्या है?

श्रेष्ठ योजना क्या है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.