80-औसत 150 का स्ट्राइक रेट, बीसीसीआई के हर टेस्ट में सफल रहा है ये बल्लेबाज , फिर भी टीम में जगह नहीं मिल रही है

भारतीय टीम के 28 वर्षीय युवा विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन इन दिनों चर्चा का विषय बने हुए हैं। क्योंकि टीम इंडिया में इस निर्णायक खिलाड़ी को लगातार खिलाने की मांग ने तूल पकड़ लिया है. इसकी बड़ी वजह उनका न्यूजीलैंड दौरे पर टीम इंडिया की 15 सदस्यीय टीम में चुना जाना था.

लेकिन संजू को उनकी काबिलियत के मुताबिक मौका नहीं दिया जा रहा है. जिसके बाद फैंस अपना गुस्सा बीसीसीआई और मैनेजमेंट पर निकाल रहे हैं. गौर करने वाली बात यह है कि इस खिलाड़ी को शानदार आंकड़े होने के बावजूद बेंच गर्म करने के लिए क्यों करवाया जा रहा है?

संजू सैमसन को मौका क्यों नहीं मिल रहा है

भारतीय टीम ने पिछले कुछ समय से अपनी प्लेइंग-11 को लेकर काफी बदलाव किए हैं। जिसके लिए आरोप लगते रहे हैं कि वह अपने 11 खिलाड़ियों के भविष्य को लेकर स्पष्ट नहीं हैं. इस वजह से खिलाड़ियों का चयन टीम के लिए चिंता का विषय बना हुआ है. भारत साल 2023 में वनडे वर्ल्ड कप की मेजबानी करने जा रहा है। ऐसे में उन खिलाड़ियों को मौके दिए जाने चाहिए जो बल्ले से रन बनाने की क्षमता रखते हों और जो टीम की उम्मीदों पर खरे उतरते हों।

ऐसे में पंत की जगह संजू सैमसन को विकल्प के तौर पर देखा जा सकता है. क्योंकि पंत लगातार फ्लॉप चल रहे हैं. बावजूद इसके फैंस मौका दिए जाने से खुश नहीं हैं. बता दें कि संजू को जब भी टीम में शामिल किया गया है. उन्होंने अपनी बड़ी और छोटी पारियों से काफी प्रभावित किया है।

उन्हें हार्दिक पांड्या की कप्तानी में आयरलैंड दौरे पर दूसरे मैच में शामिल किया गया था। जहां उन्होंने 77 रन की शानदार पारी खेली। और न्यूजीलैंड दौरे पर उन्होंने पहले मैच में 36 रनों की शानदार पारी खेली थी. अगर इस खिलाड़ी को मौका ही नहीं दिया जाएगा तो वह खुद को कैसे साबित करेगा. जिसके बारे में टीम प्रबंधन को सोचने की जरूरत है।

टीम से अंदर और बाहर होना एक बड़ी समस्या है

इस खिलाड़ी के साथ सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि ये लगातार टीम इंडिया के लिए नहीं रहता. अगर उन्हें किसी दौरे पर शामिल किया जाता है तो उन्हें प्लेइंग-11 में शामिल नहीं किया जाता है। उन्हें अक्सर बेंच गर्म करते देखा जाता है।

न्यूजीलैंड दौरे पर टी20 सीरीज में मूक दर्शक बने रहे. उन्हें किसी भी मैच में खेलने लायक नहीं माना गया और पहले वनडे में खेलने के बाद दूसरे मैच से संजू को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। इससे पहले वह आयरलैंड और साउथ अफ्रीका के खिलाफ वनडे में खेलते नजर आए थे।

संजू को जब भी मौका मिला उन्होंने ताबड़तोड़ पारी खेली.

संजू बेहतरीन बल्लेबाज हैं, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जब-जब उन्हें प्लेइंग-11 में शामिल किया गया। तभी उनके बल्ले की जमकर बारिश हुई. क्योंकि इसी साल शिखर धवन की कप्तानी में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज में उन्हें मौका मिला तो उन्होंने अपने प्रदर्शन से निराश नहीं किया. संजू सैमसन ने इस सीरीज के पहले मैच में 63 गेंदों में 86 रनों की नाबाद पारी खेली थी. इसके अलावा संजू ने आयरलैंड दौरे पर 77 रन की पारी खेली थी.

इस साल वनडे में 60 की औसत से रन बनाए

दरअसल संजू सैमसन को ज्यादा मौके नहीं मिले हैं। लेकिन उन्होंने साल 2022 में वनडे टीम के लिए 11 मैच खेले हैं। जिसमें उन्होंने 10 पारियों में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी का नमूना पेश किया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि संजू ने 10 पारियों में 80 के विशाल औसत से बल्लेबाजी करते हुए 5 बार नाबाद रहते हुए 330 रन बनाए हैं। इस दौरान उनके बल्ले से 2 अर्धशतक भी देखने को मिले। जबकि इस साल 6 टी20 मैच खेले गए हैं। जिसमें 179 रन बनाए हैं।

आईपीएल 2022 ने बल्ले से भी गहरी छाप छोड़ी

इस साल कई खिलाड़ियों ने आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन कर टीम इंडिया में जगह बनाई है. ऐसे में ऐसा नहीं हो सकता कि राजस्थान को अपनी कप्तानी में फाइनल तक पहुंचाने वाले संजू सैमसन की बात न की जाए. इस सीजन में संजू ने बल्ले के साथ-साथ कप्तानी में भी कमाल किया। उन्होंने 17 मैचों में 150 के स्ट्राइक रेट से 458 रन बनाए। इस दौरान उनके बल्ले से 2 अर्धशतक भी निकले।

भारतीय फैन्स के लिए बड़ी खबर! जसप्रीत बुमराह जल्द ही इस अहम सीरीज से वापसी करेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *