मलाला यूसुफजई का जीवन परिचय | Malala Yousafzai Biography in Hindi

Malala Yousafzai Biography in Hindi: मलाला यूसुफजई पाकिस्तान की एक ऐसी लड़की है जो पिछले कई वर्षों से लगातार अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में छाई हुई है। मलाला यूसुफजई फ़िलहाल 24 वर्ष की है और वो अन्य लड़कियों की शिक्षा के लिए काफी काम कर चुकी है जिस वजह से उसे नोबेल शांति पुरस्कार भी दिया जा चुका है। मलाला सबसे कम आयु में यह पुरस्कार जीतने वाली विजेता है जो अपने आप में बहुत बड़ा रिकॉर्ड है।

Malala Yousafzai

मलाला यूसुफजई ने हाल ही में असर मलिक से शादी की है इसकी जानकारी उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए दी है। मुझे मालूम है कि कुछ लोग मलाला यूसुफजई बायोग्राफी के बारे में जानना चाहते होंगे, क्योंकि अधिकतर लोगों को उनके बारे में कोई जानकारी नहीं होगी। तो चलिए अब हम आपको Malala Yousafzai Biography in Hindi या मलाला यूसुफजई का जीवन परिचय के बारे में जानते हैं।

मलाला यूसुफजई कौन है? – Malala Yousafzai Biography in Hindi

मलाला यूसुफजई पाकिस्तान की एक सामाजिक कार्यकर्ता है जिन्होंने पाकिस्तान में महिलाओं की शिक्षा पर आवाज उठाया। उसके बाद 9 अक्‍टूबर 2012 को तालिबानियों ने उस पर हमला कर दिया था, लेकिन वो बचने में सफल रही थी।

नाम मलाला यूसुफजई
अन्य नाम गुल मकई
जन्म तिथि 12 जुलाई 1997
जन्म स्थान मिंगोरा
राष्ट्रीयता पाकिस्तानी
आयु 24 वर्ष
आंख का रंग काला
बाल का रंग काला

मलाला यूसुफजई के परिवार की जानकारी – Family Information of Malala Yousafzai

अब आपके मन में यूसुफजई के परिवार के बारे में तरह-तरह के सवाल आते होंगे। जैसे Malala Yousafzai के पिता, माता, भाई तथा पति के कौन है। इसी वजह से हमने नीचे टेबल में इसकी जानकारी दी है ऐसे में आपको आगे ध्यान से पढ़ने की जरुरत है।

पिता जियाउद्दीन यूसुफजई
माता टूर पकाई युसुफ़ज़ई
भाई खुशहाल और अटल
बहन नहीं है

मलाला यूसुफजई की जीवनी – Malala yousafzai Biography In Hindi

मलाला यूसुफजई का जन्म 12 जुलाई 1997 को पाकिस्तान के मिंगोरा नामक शहर में हुआ था। लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि मलाला का जन्म जिस गांव में हुआ था वहां पर पहले लड़कियों के जन्म पर जश्न नहीं मनाया जाता था। लेकिन उनके माता-पिता ने उस परंपरा को तोड़ते हुए अपनी बेटी के जन्म पर खुशी जाहिर करते हुए जश्न मनाया।

आपको बता दें कि साल 2007 में तालिबानी आतंकियों ने स्वात घाटी को अपने कब्जे में कर लिया। उसके बाद लकड़ियों की शिक्षा पर प्रतिबंध लगा दिया गया। इसके अलावे उन तालिबानियों ने कार में म्‍यूजिक, सड़क पर खेलने तथा लड़कियों को टीवी कार्यक्रम देखने जैसे कार्य पर भी रोक लगा दी। जिस वजह से वहां के लोग अपने बच्चे को पढ़ने के लिए स्कूल भेजना बंद कर दिया। जब स्वात घाटी में यह घटना घटित हो रही थी उस दौरान मलाला यूसुफजई सिर्फ आठवीं कक्षा में पढ़ रही थी।

मलाला यूसुफजई की संघर्ष – Struggle of Malala Yousafzai

जब स्वात घाटी में तालिबानी आतंकियों ने लोगों पर अत्याचार करना शुरू किया, उसके बाद मलाला यूसुफजई बहुत दुखी हुई है। फिर उन्होंने बीबीसी उर्दू के लिए ब्लॉग लिखना चालू कर दिया और उसमे उन्होंने अपना नाम गुल मकई रखा। जिस वजह से यह मलाला का अन्य नाम भी है।

मलाला यूसुफजई बीबीसी उर्दू के माध्यम से स्वात घाटी में होने वाली घटनाओं के बारे में लिखा करती थी। आपको बता दें कि मलाला का पहला ब्लॉग 3 जनवरी 2009 को प्रकाशित हुआ, जिसमे वो तालिबान द्वारा लड़कियों पर होने वाले अत्याचारों के बारे में लिखती थी। उसके बाद उन्हें तालिबानियों की तरफ से धमकी मिलना शुरू हो गया था।

जब मलाला यूसुफजई पर हुआ हमला – Attack on Malala Yousafzai

जैसा कि आपने ऊपर पढ़ा कि साल 2007 में तालिबानी आतंकियों ने स्वात घाटी पर कब्ज़ा कर लिया। उसके बाद वर्ष 2009 में उन तलिबिनियों ने यह ऐलान किया कि अब वहां की कोई भी लड़की पढ़ने के लिए स्कूल नहीं जाएगी। अगर कोई इस नियम का उलंघन करता है तो उसकी मौत निश्चित है और इसका जिम्मेदार वो खुद होगा।

उसके बाद जब तालिबानी आतंकियों को यह मालूम चला कि गुल मकई नाम की कोई लड़की है जो दुनिया को हमारे अत्याचारों के बारे में बता रही है। फिर उन लोगों ने मलाला को मारने की तैयारी करना शुरू कर दिया। 9 अक्टूबर 2012 के दिन मलाला स्कूल के बाद बस से घर लौट रही थी। उस बस में आतकंवादी घुस गए और पूछने लगा कि मलाला कौन है? अन्यथा तुम सब को गोली मार दूंगा। फिर मलाला यूसुफजई की पहचान करने के बाद उन आतंकियों ने तीन गोलियां चलाई, जो उनके सर व गले में जाकर लगी।

उस घटना के दौरान मलाला के अलावे भी दो अन्य लड़कियां घायल हो गई। लेकिन मलाला की हालत सबसे अधिक गंभीर थी, क्योंकि वो कोमा में जा चुकी थी। जिस वजह से उसे इलाज के लिए ब्रिटेन ले जाया गया। फिर दो दिनों के बाद उनका होश आया और 3 जनवरी 2013 तक लगातार मलाला का इलाज चलता रहा। जिस वजह से वो पूरी तरह स्वस्थ हो गई, उसके बाद से पूरी दुनिया में मलाला यूसुफजई को लोगों ने खूब प्रशंसा की।

मलाला यूसुफजई को मिले कई पुरस्कार – Malala Yousafzai Awards

मलाला यूसुफजई के कारनामों की वजह से उन्हें कई पुरस्कार दिया जा चुका है। मुझे पता है कि बहुत कम लोगों को उन पुरस्कार के बारे में मालूम होगा। इसी वजह से हमने नीचे टेबल में उसके बारे में बताया है :-

पुरस्कार का नाम  वर्ष 
पाकिस्तान का राष्ट्रीय युवा शांति पुरस्कार 2011
अंतराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार के लिए नामांकन 2011
व‌र्ल्ड पीस एंड प्रोस्पेरिटी फाउंडेशन के वीरता पुरस्कार 2012
फ्रांस का सिमोन डी बेवॉर पुरस्कार 2013
अंतराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार 2013
मैक्सिको का समानता पुरस्कार 2013
साख़ारफ़ (सखारोव) पुरस्कार 2013
संयुक्त राष्ट्र का मानवाधिकार सम्मान 2013
नोबेल पुरस्कार 2014

तो अब आपको इस लेख में मलाला यूसुफजई का जीवन परिचय या Malala Yousafzai Biography in Hindi के बारे में सब कुछ मालूम चल गया होगा। क्योंकि हमने इस आर्टिकल में मलाला यूसुफजई के बारे में अधिक से अधिक जानकारी देने की कोशिश की है। अब आप इस लेख को सोशल मीडिया पर शेयर कर दीजिए, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इसके बारे में जान पाए।

इसे भी पढ़िए :-

जगदीश सुचित का जीवन परिचय

अर्शदीप सिंह का जीवन परिचय

क्रिकेटर हरप्रीत बरार का जीवन

Leave a Comment