विज्ञापन

सिर्फ 82 रनों पर ऑल आउट हुई लखनऊ तो बहाना बनाने लगे केएल राहुल, इसे ठहराया हार का जिम्मेदार, जानिए उन्होंने क्या-क्या कहा

केएल राहुल की कप्तानी वाली लखनऊ सुपर जायंट्स की टीम को आईपीएल 2022 के 57वें मुकाबले में गुजरात टाइटंस के हाथों 62 रनों के बड़े अंतर से हार का सामना करना पड़ा है। इस वजह से उनके समर्थक बहुत निराश होंगे, क्योंकि एलएसजी टीम के पास क्वालीफाई करने का सुनहरा मौका था।

केएल राहुल
विज्ञापन

लखनऊ सुपर जायंट्स की टीम के पास अभी भी दो मुकाबले बचे हुए हैं, इस वजह से वो कम से कम एक मैच अवश्य जीतना चाहेगी, ताकि एलएसजी की टीम आसानी से प्लेऑफ में पहुंच सके। गुजरात और लखनऊ के बीच खेले गए मैच में गुजरात की टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में 4 विकेट खोकर 144 रनों का स्कोर खड़ा किया था। उसके जवाब में केएल राहुल की कप्तानी वाली लखनऊ की टीम 13.5 ओवर में मात्र 82 रनों पर ऑल आउट हो गई, जिस वजह से उन्हें 62 रनों के अंतर से हार का सामना करना पड़ा है।

हार के बाद कप्तान केएल राहुल ने दिया बयान

गुजरात के हाथों मिली हार के बाद लखनऊ टीम के कप्तान केएल राहुल ने कहा कि “यह एक मुश्किल विकेट की तरह लग रहा था, इस तरह यह पिछले 2 या 3 मैचों के लिए यहां खेला गया है जो हमने यहां खेले हैं। हम जानते थे कि यह एक कम स्कोर वाला खेल था, हम जानते थे कि यह एक मुश्किल और चुनौतीपूर्ण पिच थी, हमने वास्तव में अच्छी गेंदबाजी की। किसी भी पिच पर टीम को 150 से कम उम्र में प्रतिबंधित करना काबिले तारीफ है और गेंदबाजों ने अपना काम किया। हमें काफी बेहतर बल्लेबाजी करनी चाहिए थी।”

विज्ञापन

केएल राहुल ने आगे कहा कि “कुछ खराब शॉट चयन, रन आउट ने मदद नहीं की, हमारे लिए अच्छी सीख, उम्मीद है कि हम इस तरह की हार से सीख सकते हैं। कभी-कभी आपको हर गेम को चालू रखने और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश करते रहने के लिए थोड़े से रिमाइंडर की आवश्यकता होती है। ये कम योग, आप पावरप्ले का उपयोग करना चाहते हैं।”

उन्होंने आगे कहा कि “मेरे और क्विंटन के लिए, यह टीम को अच्छी शुरुआत देने के बारे में था, जरूरी नहीं कि 60 रनों के पावरप्ले के लिए उतरना हो, लेकिन बहुत सारे विकेट खोए बिना कम से कम 35 या 45 तक पहुंचना एक आदर्श होता। हमें पता था कि पिच थोड़ी पकड़ में आने वाली है और पावरप्ले के बाद रन बनाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। हमने कुछ मौके लिए और वह नहीं निकला। हम जानते थे कि उनके स्पिनरों के लिए रन बनाना वाकई मुश्किल होगा। हमें मुश्किल पिचों पर अच्छे विरोधियों के खिलाफ गोल करने के तरीके तलाशने होंगे। ऐसा कुछ है जिसे हमें सीखने और समझने की जरूरत है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.