दो साल से टीम में नहीं मिली जगह, कुलदीप यादव ने लिये 4 विकेट, बल्ले से भी बरपाया कहर, 8 विकेट खोकर 271 रन पीछे बांग्लादेश

लगभग दो सालों के अंतराल के बाद भारतीय टीम के लिये खेल रहे कुलदीप यादव ने अपने हरफनमौला प्रदर्शन से बांग्लादेश के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में जलवा बिखेर दिया। पहले बल्ले से कमाल करते हुए उन्होंने अश्विन के साथ साझेदारी कर भारत को 404 के स्कोर पर खड़ा करने में अहम योगदान दिया और फिर गेंदबाजी में भी लाजवाब प्रदर्शन किया।

कुलदीप यादव को उनके 28वें बर्थडे पर बांग्लादेश के किलाफ पहले टेस्ट की प्लेइंग 11 में शामिल किया गया, जिसका जश्न उन्होंने आज मैच के दूसरे दिन भी मनाया। नौवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए, बाएं हाथ के बल्लेबाज ने अनुभवी रविचंद्रन अश्विन (58) के साथ 92 रनों की साझेदारी में सर्वश्रेष्ठ 40 रन बनाकर भारत को अपनी पहली पारी में 404 रन बनाने में मदद की।

25वें ओवर में गेंदबाजी करने आए, बाएं हाथ के कलाई के स्पिनर ने बांग्लादेशी बल्लेबाजों की नाक में दम कर दिया और चार विकेट चटकाये। कुलदीप यादव के इस करिश्मे की बदौलत बांग्लादेश ने अपनी पहली पारी में स्टंप्स तक महज 133 रन बना कर 8 विकेट गंवा दिये। उनके अलावा 3 विकेट मोहम्मद सिराज ने चटकाये, जबकि एक सफलता उनेश यादव के खाते में आयी।

कुलदीप यादव, जिन पर सेलेक्टर्स लंबे समय से भरोसा नहीं जता रहे थे, ने आज अपने प्रदर्शन से सभी को जवाब दे दिया है। उन्होंने अपने 10 ओवरों में से 3 ओवर मेडन डाले और सिर्फ 33 रन दिये। दूसरे दिन के स्टंप्स तक, बांग्लादेश आठ विकेट पर 133 रन बनाकर भारत से 271 रन पीछे था। हाथ में दो विकेट होने के कारण, मेजबान टीम को अभी भी फॉलोऑन से बचने के लिए 72 रनों की आवश्यकता है।

तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने भारत को शुरूआती सफलताएं दिलवाने के लिये नजमुल हुसैन शान्तो (1), जाकिर हसन (20) और लिटन दास को पवेलियन की राह दिखायी, जिससे बांग्लादेश की पारी लड़खड़ा गयी। मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह की अनुपस्थिति में उमेश यादव ने चौथे ओवर में यासिर अली को पवेलियन भेजा।

कुलदीप यादव ने शाकिब अल हसन, नुरुल हसन, तैजुल इस्लाम और मुश्फिकर रहीम को चलता किया।

मैच के बाद कुलदीप यादव ने कहा “मैं थोड़ा नर्वस था, मुझे किस्मत से पहले ओवर में पहला विकेट मिल गया और मैने गति वापस ले ली। कुछ ओवरों के बाद, मैंने अच्छा महसूस करना शुरू कर दिया, अपनी गति और विविधताओं को मिलाया और ओवर द विकेट और राउंड द विकेट की कोशिश की”।

उन्होंने आगे कहा “मुझे सही मोड़ मिल रहा था, जो मुझे अच्छा लग रहा था। चोटिल होने के बाद, मैंने अपनी लय पर काम करना शुरू कर दिया, थोड़ा तेज होने की कोशिश कर रहा था। इससे मुझे बहुत मदद मिल रही है। मैं स्पिन से समझौता नहीं कर रहा हूं”।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *