चांद पर कौन-कौन गया है | Chand Par Kon-Kon Gaya Hai

चांद पर कौन-कौन गया है | Chand Par Kon-Kon Gaya Hai | Chand Par Kaun-Kaun Gaya Hai

चांद पर कौन-कौन गया है? इसके बारे में आज की इस लेख में आपको सब कुछ मालूम चल जाएगा। अगर आप हिंदी गाने सुनने के शौक़ीन रखते हैं तो चांद के ऊपर आपने कई गाने सुने होंगे, लेकिन आज तक वो लोग चांद पर नहीं पहुंच पाए हैं जिन्होंने इस टॉपिक पर हिंदी गाने लिखा तथा गया है। जिन्होंने चांद पर गाना लिखा है या गया है वो तो काल्पनिक है और इसके बारे में हम सब अच्छी तरह जानते हैं। यही कारण है कि हम कई बार सोचने लगते हैं कि चांद पर कौन-कौन गया है?

चांद पर कौन-कौन गया है - Chand Par Kon-Kon Gaya Hai

आज-कल चांद के ऊपर जितने भी हिंदी गाने लिखे गए हैं उसके बारे में बहुत सारे लोगों को मालूम होगा। लेकिन उन्हें नहीं जानते होंगे जो हकीकत में चांद पर गए हुए थे। इसी वजह से आगे इस आर्टिकल में हमने बताया है कि Chand Par Kon-Kon Gaya Hai गाने में तो चांद के बारे में अधिकतर बातें काल्पनिक ही बताई गई है। लेकिन वास्तविकता क्या है, इसके बारे में वही जानते हैं जो वहां पर गए हुए थे।

चांद पर कौन-कौन गया है | Chand Par Kaun-Kaun Gaya Hai

पूरी दुनिया में सर्फ 12 ऐसे लोग हैं जो चांद पर गए हुए हैं जिस वजह से उन लोगों के पास वहां की वास्तविकता का अच्छा अनुभव होगा। अब आपको यह भी जानना चाहिए हैं कि विश्व में कौन-कौन 12 ऐसे लोग हैं जो चांद पर गए हुए हैं, इसके बारे में आगे जानकारी दी गई है उसे अवश्य पढ़िए :-

1. नील आर्मस्ट्रांग (Neil Armstrong)

अमेरिका के रहने वाले नील आर्मस्ट्रांग दुनिया के पहले व्यक्ति हैं जो चांद पर गए हुए थे। 20 जुलाई 1969 को नील आर्मस्ट्रांग अपोलो 11 मिशन से चांद पर गए थे, वो एक वैमानिक इंजिनियर तथा अंतरिक्ष यात्री थे।

अपोलो 11 मिशन के दौरान नील आर्मस्ट्रांग चंद्रमा पर जिस यान से गए हुए थे वो उसका कमांडर थे। आर्मस्ट्रांग को इस उपलब्धि के लिए राष्ट्रपति निक्सन ने अपने हाथों से उन्हें Presidential Medal of Freedom से सम्मानित किया था।

उसके बाद साल 1978 में अमेरिका के राष्ट्रपति जिमी कार्टर ने Congressional Space Medal of Honor प्रदान किया था। नील आर्मस्ट्रांग नासा (National Aeronautics and Space Administration) के लिए काम करते थे और साल 1971 वो इससे रिटायर्ड हो गए थे।

उसके बाद उन्होंने कई काम किए, जिसमे कॉर्पोरेट प्रवक्ता, साइंस सीरीज की मेजबानी करना तथा कॉलेज में पढ़ाने जैसे कार्य शामिल हैं। नील आर्मस्ट्रांग का जन्म 5 अगस्त 1930 को Wapakoneta अमेरिका में हुआ था। वहीं उनकी मृत्यु 25 अगस्त 2012 को Cincinnati में हुआ था, उस दौरान आर्मस्ट्रांग की आयु 82 वर्ष थी।

2. बज एल्ड्रिन – Buzz Aldrin

बज एल्ड्रिन चंद्रमा पर जाने वाले दुनिया के दूसरे व्यक्ति हैं। 20 जुलाई1969 को अपोलो 11 मिशन के दौरान नील आर्मस्ट्रांग के साथ बज एल्ड्रिन भी गए हुए थे। आपको बता दें कि बज एल्ड्रिन एक अमेरिकी यांत्रिक इंजीनियर हैं, जिस वजह से अपोलो 11 मिशन के वक्त वो ल्यूनर मोड्यूल पायलट थे।

साल 2016 में जब बज एल्ड्रिन 86 वर्ष के थे, उस दौरान वो दक्षिण ध्रुव तक पहुंच गए थे और ऐसा करने वाले एल्ड्रिन दुनिया के सबसे उम्रदराज व्यक्ति बन गए थे। उस मुकाम को हासिल करने के बाद उन्होंने यह कहा था कि हमने मौत को बेहद करीब देखा है। बज एल्ड्रिन का जन्म 20 जनवरी 1930 को अमेरिका के Glen Ridge में जन्म हुआ था। इस समय उनकी आयु 91 वर्ष है और वर्तमान में वो फ्लोरिडा में रह रहे हैं।

3. पीट कॉनराड – Pete Conrad

पेटे कॉनराड नासा अंतरिक्ष यात्री तथा वैमानिकी इंजीनियर थे। इसी वजह से उन्होंने नवंबर साल 1969 में अपोलो 12 मिशन के दौरान चांद पर कदम रखा था। उसके चार साल बाद साल 1973 में कॉनराड नासा से रिटायर्ड हो गए, फिर वो एक बिजनेसमैन के रूप में काम करने लगे।

8 जुलाई 1999 को पीट कॉनराड कैलिफोर्निया में मोटरसाइकिल से कहीं जा रहे थे और उस दौरान उनका एक्सिडेंट हो गया, जिस वजह से उनकी मौत हो गई। कॉनराड का जन्म 2 जून 1930 को अमेरिका के Philadelphia में हुआ था और 69 साल की उम्र में दुर्घटना की वजह से उनकी मृत्यु हो गई।

4. एलन बीन – Alan Bean

चंद्रमा पर पहुंचने वाले एलन बीन विश्व के चौथे व्यक्ति हैं जो साल 1969 में अपोलो 12 मिशन का हिस्सा थे। एलन नासा के लिए काम करते थे और वो परीक्षण पायलट, एयरोनॉटिकल इंजीनियर तथा नौसेना सलाहकार थे। एलन बीन साल 1981 तक नासा के लिए काम किया था।

नासा से रिटायर्ड होने के बाद एलन बीन पेंटर का काम करने लगे और उस काम में उन्होंने अपने स्पेससूट के टुकड़े का भरपूर उपयोग किया। एलन बीन का जन्म 15 मार्च 1932 को अमेरिका के Wheeler, Texas में हुआ था, वहीं उसकी मृत्यु 26 मई 2018 को 86 वर्ष की उम्र में हुई थी।

5. एलन शेपर्ड – Alan Shepard

साल 1971 में एलन शेपर्ड अपोलो 14 मिशन के समय वो भी उसका हिस्सा थे, जिस वजह से वो दुनिया चांद पर जाने वाले विश्व के पांचवें व्यक्ति बने थे। उसके तीन साल बाद साल 1974 में एलन शेपर्ड नासा से रिटायर्ड हो गए।

जब एलन शेपर्ड नासा से रिटायर्ड हो गए, फिर वो बैंकिंग तथा रियल स्टेट जैसे काम करने लगे। उसके बाद 21 जुलाई 1988 को उनका निधन 74 वर्ष की आयु में हो गया। वहीं एलन शेपर्ड का जन्म 18 नवंबर 1923 को संयुक्त राज्य अमेरिका के Pebble Beach, Del Monte Forest, California में हुआ था।

6. एडगर मिशेल – Edgar Mitchell

साल 1971 में अपोलो 14 मिशन के दौरान एडगर मिशेल भी एलन शेपर्ड के साथ चांद पर गए हुए थे और वो चंद्रमा पर जाने वाले दुनिया के छठे व्यक्ति बने थे। एडगर मिशेल एक अंतरिक्ष यात्री थे, जिन्होंने साल 1972 तक नासा के लिए काम किया। उसके बाद उन्होंने ईएसपी और अन्य मानसिक घटनाओं पर रिसर्च करने वाली संगठन नोएटिक साइंसेज संस्थान की मदद करने लगे।

एडगर मिशेल का जन्म 17 सितम्बर 1930 को संयुक्त राज्य अमेरिका के Hereford, Texas में हुआ था। वहीं 85 वर्ष की उम्र में 4 जुलाई 2016 को उनकी मृत्यु West Palm Beach, Florida में हुई।

7. डेविड स्कॉट – David Scott

डेविड स्कॉट अगस्त साल 1971 में अपोलो 15 क्लासिक के अंतरिक्ष यात्री थे और चंद्रमा पर जाने वाले वाले विश्व के सातवें व्यक्ति बने थे। स्कॉट परीक्षण पायलट तथा नासा के अंतरिक्ष यात्री थे। आपको बता दें कि डेविड स्कॉट तीन बार अंतरिक्ष में उड़ान भर चुके हैं, जिसमे वो सफल भी रहे हैं।

डेविड स्कॉट साल 1977 में जब नासा से रटायर्ड हो गए फिर उन्होंने बतौर लेखक काम करना शुरू किया। फिलहाल वो कैलिफोर्निया के लॉस एंजिलिस में रहते हैं। स्कॉट का जन्म 6 जून 1932 को अमेरिका के San Antonio, Texas में हुआ था और इस समय उनकी आयु 89 वर्ष हो चुकी है।

8. जेम्स इरविन – James Irwin

जेम्स इरविन का पूरा नाम जेम्स बेन्सन इरविन है जो वैमानिकी इंजीनियर, अमेरिका के वायु सेना पायलट, परीक्षण पायलट तथा अमेरिकन अंतरिक्ष यात्री थे। इरविन अपोलो 15 मिशन के दौरान वो उसका हिस्सा थे, तथा चंद्रमा पर जाने वाले दुनिया के आठवें व्यक्ति बने थे।

जब जेम्स इरविन साल 1972 में नासा से रिटायर्ड हुए थे, उसके बाद उन्होंने आउटरीच संगठन हाई फ्लाइट फाउंडेशन की स्थापना की थी। जेम्स इरविन का जन्म 17 मार्च 1930 को संयुक्त राज्य अमेरिका के Pittsburgh, Pennsylvania में हुआ था और उसकी मृत्यु 8 अगस्त 1971 को हार्ट अटैक की वजह से हो गई थी।

9. जॉन यंग – John Young

जॉन यंग का पूरा नाम जॉन वाट्स यंग है जो एक वैमानिकी इंजीनियर, संयुक्त राज्य अमेरिका के तरिक्ष यात्री, परीक्षण पायलट तथा नौसेना अधिकारी थे। जो साल 1972 में अपोलो 16 मिशन के वक्त एक कमांडर के तौर पर चांद पर गए थे और ऐसा करने वाले वो दुनिया के नौवें व्यक्ति बने थे।

जॉन यंग सबसे अधिक छह बार अंतरिक्ष की यात्रा करने वाले वैज्ञानिक हैं जो एक विश्व रिकॉर्ड भी है। जॉन यंग का जन्म 24 सितम्बर 1930 को अमेरिका के San Francisco, California में हुआ था, वहीं उनकी मृत्यु 5 जनवरी 2018 को Houston, Texas में निमोनिया की वजह से हुआ था।

10. चार्ल्स ड्यूक – Charles Duke

चार्ल्स ड्यूक का पूरा नाम चार्ल्स मॉस ड्यूक जूनियर है जो संयुक्त राज्य अमेरिका के पूर्व परीक्षण पायलट, अमेरिकी वायु सेना तथा अंतरिक्ष यात्री हैं। ड्यूक साल 1972 में अपोलो 16 मिशन के समय चांद पर गए थे और वो चंद्रमा पर जाने वाले विश्व के दसवें व्यक्ति बने थे।

जॉन यंग अपोलो 16 के बाद जब रिटायर्ड हुए, उसके बाद उन्होंने जेल मंत्रालय के तौर पर काम करना चालू कर दिया। जॉन यंग का जन्म 3 अक्टूबर 1935 को संयुक्त राज्य अमेरिका के Charlotte, North Carolina में हुआ था, जिस वजह से फिलहाल वो 86 वर्ष के हो गए हैं।

11. यूजीन सेरनन – Eugene Cernan

यूजीन सेरनन का पूरा नाम यूजीन एंड्रयू सर्नन है जो अमेरिका के पूर्व वैमानिकी इंजीनियर, इलेक्ट्रिकल इंजीनियर, अंतरिक्ष यात्री तथा लड़ाकू पायलट थे। 7 दिसंबर 1972 को अपोलो 17 मिशन के दौरान यूजीन सेरनन उसका हिसा थे और चांद पर कदम रखने वाले विश्व के ग्यारहवें व्यक्ति बने थे।

यूजीन सेरनन साल 1976 में नासा से रिटायर्ड हुए हुए थे, उसके बाद उन्हें एक प्राइवेट इंडस्ट्री में काम करते हुए देखा गया। यूजीन सेरनन का जन्म 14 मार्च 1934 को अमेरिका के Chicago, Illinois में हुआ था तथा उनकी मृत्यु 16 जनवरी 2017 को Houston, Texas में हुई थी। उस समय यूजीन सेरनन की आयु 82 वर्ष थी।

12. हैरिसन श्मिट – Harrison Schmitt

हैरिसन श्मिट का पूरा नाम हैरिसन हैगन श्मिट है जो अमेरिका के नासा अंतरिक्ष यात्री, भूविज्ञानी और विश्वविद्यालय के प्रोफेसर थे। हैरिसन श्मिट साल 1972 के अपोलो 17 मिशन का हिस्सा रहे थे और उन्होंने चंद्रमा पर कदम रखा था। जिस वजह से वो ऐसा करने वाले दुनिया के बारहवें व्यक्ति बने थे।

हैरिसन श्मिट नासा से साल 1975 में रिटायर्ड हुए थे। उसके बाद उन्होंने एक वर्ष के लिए न्यू मैक्सिको का यू.एस. सीनेट में रिपब्लिकन के तौर पर प्रतिनिधित्व किया था। फिर उन्हें विश्वविद्यालय स्तर पर पढ़ाते हुए भी देखा गया। हैरिसन श्मिट का जन्म 3 जुलाई 1935 को अमेरिका के Santa Rita, New Mexico में हुआ था। इस समय वो 86 वर्ष के हैं।

चांद से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण सवाल व जवाब (FAQ)

चांद पर कौन-कौन गया है? इसके बारे में जानने के बाद आपके मन में इससे संबंधित कई तरह के सवाल आ सकते हैं, इसी वजह से नीचे हमने कुछ प्रश्न के जवाब दिए हैं जिसे आपको अवश्य पढ़ना चाहिए :-

No schema found.

तो अब आपको समझ में आ गया होगा कि चांद पर कौन-कौन गया है? इस लेख में हमने दुनिया के उन सभी 12 लोगों के बारे में बताया है जो चंद्रमा पर गए हुए थे। इस वजह से अब मुझे पूरा उम्मीद है कि यह लेख Chand Par Kon-Kon Gaya Hai के बारे में संपूर्ण जानकारी मिल गई होगी। अब आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर कर दीजिए, ताकि उन्हें भी इसके बारे में पूरी जानकारी मिल सके।

इसे भी पढ़िए :-

Free Fire Game का मालिक कौन है?

पब्जी का बाप कौन है?

Leave a Comment